Most 10 Physics question aisa kyu hota hai |10 भौतिक विज्ञान प्रश्न ऐसा क्यों होता है | 

Most 10 Physics question aisa kyu hota hai : दोस्तों आज हम लोग इस पोस्ट में फिजिक्स के कुछ प्रश्न के बारे में जानेंगे | दोस्तों दुनिया में कुछ ऐसे ऐसे आविष्कार हुए हैं जिनके बारे में सोचकर हम लोग हैरान रह जाते हैं |  कि आखिर ऐसा क्यों होता है | इतना बड़ा हवाई जहाज हवा में कैसे उड़ जाता है क्या आपने इसके बारे में कभी सोचा है|  क्या कारण है कि एक छोटी सी लोहे की कील पानी में डूब जाते हैं और बड़ा जहाज नहीं  डूबता ऐसा क्यों?  तो दोस्तों चलिए ऐसे ही कुछ प्रश्नों के बारे में जानते हैं | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai |

Table of Contents

Most 10 Physics question aisa kyu hota hai

1. हवाई जहाज हवा में कैसे उड़ता है?

हवाई जहाज आधुनिक दुनिया के सबसे बड़े अजूबे के रूप में समझा जाता है। आखिर कैसे उड़ पाता है हवाई जहाज़ हवा में ! आइये जानते हैं और चर्चा करते हैं। 

हवाई जहाज का इंजन की वजह से नहीं बल्कि अपने पंख के आकार की वजह से उड़ पाना संभव हो पाता है। पंख की इस विशेष बनावट को एरोफाइल (Aerofoil) कहते हैं। इस एरिफ़ाइल की विशेषता यह है कि पंख के ऊपर और नीचे से गुजरने वाली हवा को पीछे जाकर एक ही समय पर मिलने के लिये ऊपर से होकर जाने वाली हवा को नीचे से होकर जाने वाली हवा से तेज चलना पड़ता है।

वायु की गति जितनी तेज होती है उसका दबाव उतना ही कम होता है। पंख के ऊपर वाले भाग में वायु का दाब , नीचे वाले भाग की तुलना में कम होगा, जिससे पंख ऊपर उठने को बाध्य होंगे वायुदाब के अन्दर द्वारा उत्पन्न वह बल जिस के कारण वायुयान ऊपर उठने को मजबूर हो जाता है। ये बल उत्थापक बल (Lift) कहलाता है। इंजन का काम तो होता है वायुयान की तेजी के साथ वायु के बीच से गुजरना ताकि उत्थापक बल द्वारा यह ऊपर उठाया जा सके।

2. क्या कारण है कि लोहे की बनी कील जल में डूब जाती हैं परंतु लोहे की जहाज जल पर तैरती हैं?

इस प्रश्न का जवाब देने से पहले हम आपको बताएंगे चीज़ें कब और कैसे तैरती हैं।  आइये कुछ मूल सिद्धांतों पर चर्चा करते हैं।

जब किसी वस्तु को द्रव में डुबाया जाता है तो द्रव उस वस्तु पर ऊपर की और एक बल लगाता है।  इस बल को उत्प्लावन बल (Buoyancy force) कहते हैं।  यह बल वस्तुओं द्वारा हटाए गए द्रव के गुरुत्व-केंद्र पर कार्य करता है, जिसे उत्प्लावन केंद्र (center of buoyancy) कहते हैं । इसका अध्ययन सर्वप्रथम आर्कमिडीज ने किया था ।

वस्तु अपने आयतन के बराबर द्रव को हटती है। इस हटाए गए द्रव का भार द्रव के घनत्व पर निर्भर करता है . यदि हटाए गए द्रव का भार वस्तु के भर से ज़्यादा हो तो वस्तुएं तैरती हैं और अन्यथा डूब जाती हैं . यदि  बराबर हो तो वास्तु डूबकर पानी की सतह से लगकर तैरती रहती है ।

3. पेड़ को हिलाने पर उसमें लगे फल नीचे क्यों गिरते हैं?

पेड़ को हिलाने पर उसकी शाखाएँ गत्यावस्था में आ जाती है किन्तु फल जड़त्व के कारण विरामावस्था में ही रहते हैं। अतः फल टूटकर नीचे गिर जाते हैं।

Most 10 Physics question aisa kyu hota hai | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai

4. यदि चलती रेल गाड़ी में बैठा व्यक्ति एक सिक्का ऊपर उछाले तो वह उस व्यक्ति के हाथ में ही गिरता है,कैसे?

जब हम रेलगाड़ी के डब्बे में  बैठे होते हैं तो आस पास की सारी हवा और सारी चीज़ें जैसे कि उड़ती मख्खियां आदि भी ट्रेन की स्पीड यानी गति से ट्रेन के साथ चल रहे होते हैं . इसका मतलब ये हुआ कि, ऊपर हवा में  उछाला हुआ सिक्का ऊपर नीचे गति के साथ साथ ट्रेन के साथ क्षैतिज दिशा मैं भी  गति करता है।  इसलिए उछालने पर सिक्का वापस हाथ में  ही गिरता है। 

आपने देखा होगा कि अगर आप सिक्के को या किसी कागज़ को बस या ट्रेन से बाहर फेंके तो सिक्का या कागज़ पीछे रह जाता है।  इसका कारण ये है कि बस या ट्रैन के बहार की हवा गति नहीं कर रही है . जैसे ही सिक्का इस स्थिर हवा के सम्पर्क में आता  है , घर्षण के कारण वो अपने गति को खो देता है।

इसे भी पढ़े :- 

5. जब कोई व्यक्ति चलती हुई गाड़ी से कूदता है तो वह मुंह के बल आगे की ओर क्यों गिरता है?

जब कोई व्यक्ति किसी चलती गाड़ी से कूदता है तो वह मुँह के बल आगे की ओर गिर जाता है, ये जड़त्व के कारण होता है।  हर वस्तु में अपनी स्थिति या गति के कारण जड़त्व होता है जो उसकी वर्तमान दशा का विरोध करता है। 

जब व्यक्ति गाड़ी में था तब उसका पूरा शरीर भी गाड़ी के वेग से गतिमान था। जब वह कूदता है तब उसके पांव जमीन के लगते ही स्थिर हो जाते है, परन्तु ऊपर का शरीर जड़त्व के कारण गाड़ी के वेग से गतिमान रहता है फलस्वरूप व्यक्ति मुँह के बल आगे की ओर गिर जाता है।

दूसरे शब्दों में, जड़त्व ही वह गुण है जिसके कारण वस्तु बिना दिशा बदले, एक सरल रेखा में, समान वेग से चलती रहती है। न्यूटन का प्रथम नियम भी यही है।

6. हारमोनियम व सितार के ध्वनि को हम कैसे पहचानते हैं?

हारमोनियम और गिटार को साथ-साथ बजाने पर उसमें मूल स्वरक तो एक ही उत्पन्न होता है परन्तु उनके अभिस्वरकों में भिन्नता होती है इस कारण हम दोनों वाद्य यंत्रों में उत्पन्न ध्वनियों को अलग-अलग पहचान लेते हैं।

Most 10 Physics question aisa kyu hota hai | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai

7. मौत के कुएं में एक चालक तेजी से मोटरसाइकिल चलाते हुए उल्टा होने पर भी क्यों नहीं गिरता है?

मौत के कुएं में चालक मोटर साइकिल को चलाते हुये उल्टा होने पर भी नहीं गिरने का कारण अपकेन्द्रीय बल (Centrifugal force) है जिसके कारण किसी वस्तु को वृत्ताकार पथ पर तेजी से घुमाते हुए संतुलित रहता है। घूमने की गति जितनी तेज होगी यह अपकेन्द्री बल भी उतना ही अधिक होगा।

अपकेन्द्रीय बल (Centrifugal Force)-

वृत्तीय गति में पिंड लगातार घूम रहा होता है।  इसका मतलब ये है कि पिंड का वेग लगातार बदल रहा होता है (क्यूंकि दिशा लगातार परिवर्तित हो रही है)। अतः पिंड त्वरण की अवस्था में होता है। 

न्यूटन के गति के द्वितीय नियम के अनुसार यदि कहीं कोई त्वरण है तो त्वरण की दिशा में बल अवश्य लग रहा होगा। इसे अभिकेन्द्रीय बल  कहते हैं।  यदि m द्रव्यमान का कण एक समान वृत्तीय गति कर रहा हो तो उस पर लगने वाले अभिकेन्द्रीय बल का मान निम्नलिखित सूत्र द्वारा दिया जायेगा:

r, पथ की वक्रता त्रिज्या

 है, v,  वेग का परिमाण (magnitude) है, ῳ कोणीय वेग है।

न्यूटन के गति के तृतीय नियम के अनुसार, प्रत्येक क्रिया के समान एवं विपरीत प्रतिक्रिया होती है। ‘यह प्रतिक्रिया ही अपकेंद्री बल है जो पिंड महसूस करता है। अपकेन्द्री बल एक जड़त्वीय बल है जो वृत्तीय गति करती हुई वस्तुओं प्रगति के पथ के केन्द्र से दूर त्रिज्या की दिशा में ‘लगता हुआ प्रतीत होता है। वास्तव में यह एक कल्पित बल (fictitious force) है, वास्तविक नहीं।

इसे भी पढ़े :- 

8. नल से बाल्टी में गिरते पानी की आवाज प्रति पल क्यों बदलती रहती हैं?

नल के नीचे रखी बाल्टी एक वायु कोष्ठक (Air column) की भांति कार्य करती है जब नल से पानी बाल्टी में गिरता है तो विभिन्न आवृत्ति की तरंगें उत्पन्न होती है। बाल्टी में उपस्थित वायु कोष्ठक एक अनुनादक (Resonator) की भांति व्यवहार करता है पानी गिरने से उत्पन्न होने वाली ध्वनि तरंगों में से एक विशेष आवृत्ति की तरंग इसमें से अनुनाद (Resonance) होकर उच्च तीव्रता के साथ सुनाई देती है।

 यह प्रश्न भौतिकी के एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण सिद्धांत को सामने लाता है . हम बात कर रहे हैं अनुनाद या रेजोनेंस की। 

अनुनाद (Resonance)- हर एक तंत्र या निकाय की अपनी प्राकृत आवृत्ति होती है।  यदि निकाय के पास कोई ऐसा निकाय हो जिसकी आवृत्ति पहले की आवृत्ति के बराबर या आस पास होती है तो निकाय काफी बड़े बड़े कम्पन करने लगता है।  इसे अनुनाद या रेजोनेंस कहते हैं।  जिस आवृत्ति पर सबसे अधिक आयाम वाले दोलन की प्रवृत्ति पायी जाती है, उस आवृत्ति को अनुनाद आवृत्ति (रेसोनेन्स फ्रिक्वेन्सी) कहते हैं।

नीचे दिखाया गया चित्र इसी सिद्धांत को दर्शाता है . स्वरित्र (टुनिग फोर्क) को जब चिमटे से बजाय जाता है . इसकी तीव्रता को बदला जाता है।  नीचे वायु स्तम्भ की अपनी प्राकृत आवृत्ति होती है।  जब स्वरित्र की आवृत्ति वायु स्तम्भ की आवर्त्ती के बराबर हो जाती है , हमें एक तेज आवाज़ (झन्नाहट) सुनाई देती है। यह तब होता है जब अनुनाद की दशा आती है।

Most 10 Physics question aisa kyu hota hai | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai

9. ठंड ऋतु में बादल होने पर, रात दिन की अपेक्षा में गर्म प्रतीत होती है ,क्या?

बादल होने पर दिन के समय सूर्य से आने वाले ऊष्मा-विकिरण बादल से परावर्तित हो जाते हैं अतः दिन ठंडा में ठंडा लगता है, किन्तु रात के समय पृथ्वी के ऊष्मा-विकिरण बादल से परावर्तित होकर पृथ्वी पर ही वापस लौट आते हैं। अतः रात गर्म प्रतीत होती है।

10.  बर्फ के कारखानों में बर्फ जमाने के लिए बर्तनों को पानी से पूरा क्यों नहीं भरते हैं?

बर्फ के कारखानों में बर्फ जमाने के लिये धातु के बर्तनों को पानी से पूरा नहीं भरते है क्योंकि जब जल बर्फ में बदलती है तो बर्फ के आयतन में वृद्धि होती है। यदि डब्बे को पूरा भर दिया जाए तो आयतन बढ़ने पर, बर्फ के दवाब से डब्बा फट जायेगा।

इसे भी पढ़े :- 

Most 10 Physics question aisa kyu hota hai | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai | Most 10 Physics question aisa kyu hota hai

Leave a Comment